Categories
अलंकार सामान्य हिन्दी

अनुप्रास अलंकार

अनुप्रास अलंकार (Anupras alankar) :-

अनुप्रास अलंकार (anupras alankar) –अनुप्रास शब्दअनु‘ ‘प्र‘ तथा ‘आस‘ तीन पदों के मेल से बना है| इसका अर्थ है- ‘अनु’ (पीछे-पीछे) ‘प्र’ (प्रकृष्ट वर्णों का’), ‘आस’ (सन्निवेश) अर्थात जब एक ही वर्ण की आवृति एक से अधिक बार होती है, वहाँ अनुप्रास अलंकार होता है |

wikipedia

अनुप्रास अलंकार
anupras alnkar
chekanupras alankar
अनुप्रास अलंकार हिन्दी
अंत्यानुप्रास अलंकार
लाटानुप्रास अलंकार

अलंकार के बारे में अधिक पढ़ें

  • अलंकार- परिभाषा, भेद एवं उदाहरण
    अलंकार : परिभाषा, भेद एवं उदाहरण अलंकार (Alankar) काव्य भाषा अर्थात सृजनात्मक भाषा का अनिवार्य तत्व है| “अलंकार” Alankar शब्द दो शब्दों के योग […]
  • अलंकारों का वर्गीकरण
    काव्य का आधार शब्द और अर्थ है| इन्ही शब्द और अर्थ के आधार पर ही अलंकारों का वर्गीकरण किया जाता है अलंकारों को मुखयत: […]
  • अनुप्रास अलंकार
    अनुप्रास अलंकार (Anupras alankar) :- अनुप्रास अलंकार (anupras alankar) –अनुप्रास शब्द ‘अनु‘ ‘प्र‘ तथा ‘आस‘ तीन पदों के मेल से बना है| इसका अर्थ […]
  • यमक अलंकार
    यमक अलंकार :- यमक शब्द का अर्थ है- जोड़ा| यमक अलंकार में एक जैसे दो शब्दों की आवृति होती है|जिस प्रकार अनुप्रास अलंकार में […]
  • पुनरुक्ति अलंकार
    पुनरुक्ति अलंकार (Punrukti Alankar) दो शब्दों से मिलकर बना है – पुन: + उकित| अर्थात जब कोई शब्द दो बार दोहराया जाता है, वहाँ […]
  • श्लेष अलंकार
    श्लेष अलंकार :- श्लेष का अर्थ है- मिला हुआ, चिपका हुआ या संश्लिष्ट|जब काव्य में एक शब्द के साथ अनेक अर्थ चिपके हुए होते […]
  • वक्रोक्ति अलंकार
    वक्रोक्ति अलंकार:- अलंकार – वक्रोक्ति का अर्थ है “टेढ़ी-उक्ति” अर्थात जहाँ किसी उक्ति का अर्थ वक्ता के अभिप्राय से भिन्न समझा जाए, वहाँ वक्रोक्ति […]

Leave a Reply

Your email address will not be published.